नौसेना मे शामिल हुई पनडुब्बी वागिर, दुश्मन का रेडार भी नहीं पकड़ पाएगा

0
8

मुंबई। मझगांव डाक पर गुरुवार को स्कोर्पियन श्रेणी की पाँचवी पनडुब्बी वागिर नौसेना के बेड़े में शामिल हुई ।  इसका रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नाईक ने ऑनलाइन लोकार्पण किया । 

वेस्टर्न नेवल कमांड चीप वॉइस एड्मिरल आरबी पंडित ने कहा की वागिर पानी मे छिपकर दुश्मन के रेडार को चकमा देने, आधुनिक ध्वनि को सोखने वाली तकनीक से लैस है । 

यह टारपीडो से हमला करने के साथ ही ट्यूब से लॉंच की जाने वाली पोत रोधी मिसाइलों को पानी के अंदर और सतह से छोड़ सकती है । वागिर आने वाले एक साल मे कमीशंड होने की उम्मीद है ।  

इस पनडुब्बी का नाम वागिर क्यों रखा गया ?

इस पनडुब्बी का नाम हिन्द महासागर की शिकारी मछली वागिर के नाम पर है । पहली वागिर पनडुब्बी रूस से मिली थी, जिसे नौसेना में 1973 को शामिल किया गया और जून 2001 में यह रिटायर हुई । 

प्रोजेक्ट -75 

वागिर देश में बनने वाली छह कलावरी श्रेणी के पनडुब्बीयों मे से एक है । इसे फ्रेंच नेवल डिफेंस और एनर्जी कंपनी डीसीएनएस ने डिजाइन किया है और हमारी नौसेना के प्रोजेक्ट-75 के तहत तैयार की जा रही है । 

vagir

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here