जानिए पासपोर्ट का इतिहास, पासपोर्ट की शुरुआत कैसे हुई ?

0
8

आजकल की भागती-दौड़ती ज़िंदगी में समय कब गुजर जाता है पता ही नहीं चलता, कौनसी चीज हमारे लिए महत्वपूर्ण है व क्यों, कब व कैसे इन सभी सवालों के जवाब जानने के लिए समय ही किसके पास है, आप जब कहीं पर भी जब विदेश यात्रा करते है तो आपको पासपोर्ट की जरूरत तो जरूर पड़ती होगी इसके बिना आप विदेश यात्रा नहीं कर सकते है इसलिए विदेश यात्रा के लिए पासपोर्ट की अहमियत बहुत ही महत्वपूर्ण होती है । 

दोस्तो आज की इस पोस्ट में पासपोर्ट के इतिहास के बारें में बताया जायेगा जैसे पासपोर्ट की शुरुआत कब हुई कहाँ व कैसे हुई आदि जानकारी आपके साथ Share की जाएगी । तो चलिए दोस्तो आज इस पासपोर्ट का पोस्टमार्टम कर देते है । 
 
येस टॉक में दी गई जानकारी प्रीमिययम या पैड जानकारी से भी कहीं ज्यादा उपयोगी होती है इसलिए इस पोस्ट आखिरी तक जरूर पढ़ना तो चलिए दोस्तो आज इस पासपोर्ट का पोस्टमार्टम कर देते है । 
 
पासपोर्ट का इतिहास

 

 
विषय सूची-
  • 1.पासपोर्ट शब्द का अर्थ क्या है ?
  • 2.पासपोर्ट की शुरुआत कब व कैसे हुई ?
  • 3.पासपोर्ट का प्राचीन इतिहास कैसा रहा ? 
  • 4. जब दुनिया में पासपोर्ट की व्यवस्था समाप्त हो गई?
  • 5. पासपोर्ट को मानक रूप कब दिया गया ?
  • 6. भविष्य मे पासपोर्ट कैसे होंगे ?
 

1.पासपोर्ट शब्द का अर्थ क्या है ? 

पासपोर्ट शब्द का अर्थ है पोर्ट से गुजरना । यहाँ पोर्ट से मतलब नगर के द्वार से है, जब आप किसी शहर में प्रवेश करें तो अपना परिचय दे यही पोस्टमार्टम का अर्थ है । 

2 पासपोर्ट की शुरुआत कैसे हुई ?

मध्य युग के यूरोप में इस (पासपोर्ट) प्रकार के दस्तावेज़ का इस्तेमाल यात्री लोग अपनी यात्रा के लिए करते थे । इंग्लैंड के राजा हेनरी पंचम ने पहली बार ऐसे औपचारिक परिचय पत्र का आविष्कार किया, जिसे पासपोर्ट कहते है । इसका विवरण 1414 के संसदीय अधिनियम में मिलता है, अत: तब पासपोर्ट की शुरुआत हुई थी।  

3.पासपोर्ट का प्राचीन इतिहास कैसा रहा ?

यह विदेश यात्रा पर जाने वाली अपनी प्रजा को दिया गया परिचय पत्र था । इस प्रकार के दस्तावेज़ का सबसे प्राचीन विवरण सन् 1414 के संसदीय अधिनियम के रूप में मिलता है । 

उन्नसवी सदी में रेलवे के आविष्कार के बाद यूरोप में यात्राएँ बढ़ गई और उनकी तेज गति के कारण दस्तावेजो की जांच कारना मुश्किल काम हो गया, तो एक लंबे समय तक बगैर पासपोर्ट यात्राएँ होती रही । 

4. जब पासपोर्ट की व्यवस्था लगभग समाप्त हो गई तब –

पहले विश्व युद्ध तक पासपोर्ट की व्यवस्था समाप्त हो गई । विश्व युद्ध के दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा के सवाल उठे और उसके साथ पासपोर्ट की आधुनिक व्यवस्था का विकास हुआ और एक बार फिर से पासपोर्ट का चलन शुरू हुआ । 

5. पासपोर्ट को मानक रूप कब दिया गया ?

सन् 1920 में लीग ऑफ नेशंस का पासपोर्ट और कस्टम की औपचारिकता के बाबत पेरिस सम्मेलन हुआ । इस सम्मेलन में पासपोर्ट की मानक बुकलेट डिजाइन स्वीकृत हुई । 

फिर 1926 और 1927 मे इस विषय पर अंतराष्ट्रीय सम्मेलन हुए । सयुंक्त राष्ट्र की स्थापना के बाद 1963 में अंतराष्ट्रीय यात्रा को लेकर सम्मेलन हुआ । 

सन् 1980 मे जाकर अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन ने मशीन रिडेबल पासपोर्ट का रूप तैयार किया । हाल ही के वर्षो मे बायोमेडिकल पहचान को पासपोर्ट मे शामिल किया जा रहा है । 

6. भविष्य मे पासपोर्ट कैसे होंगे ?

वर्तमान की बात करे तो पासपोर्ट हाल फिलहाल एक बुक के रूप में प्रयोग होता है जिसका उपयोग विदेश यात्रा करने के लिए किया जाता है । संभव है आने वाले समय में पासपोर्ट किसी अन्य रूप में हमे ढेखने को मिले । बताया जा रहा है की भविष्य में पासपोर्ट स्मार्टकार्ड या किसी अन्य रूप में होंगे । 

आशा करता हूँ आपको पासपोर्ट से जुड़ी यह इतिहास की बातें पसंद आयी होगी और आपको इसमें कुछ सीखने को मिला होगा अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने Social मीडिया अकाउंट में जरूर share करें ताकि अधिक से अधिक लोगो तक पहुँच सके । 

यह भी पढ़ें-

5G Technology सिर्फ 17 सेकंड में पूरी फिल्म हो जाएगी download | भारत मे कब लॉंच होगा । 

क्या आपको पता है,रविवार क्यों है छुट्टी का दिन ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here